July 25, 2021

Digital Trend News

Content You May Like

Human Rights in North Korea, जहां तीन पीढ़ियों को मिलती है एक शख्स की गलती की सजा, देश में ऐसा है कानून कि सिर चकरा जाएंगे!

1 min read
Human Rights in North Korea

Human Rights in North Korea : उत्तर कोरिया का नाम सुनते ही दुनिया की तमाम अजीबोगरीब बातें दिमाग में आने लगती हैं। इस देश में कितने ही अजीबोगरीब कानून हैं, जिन्हें जानने के बाद लोग सिर पकड़ लेते हैं। कुछ का यह भी मानना ​​है कि मृत संस्थापक किम इल-सुंग अभी भी एक आत्मा के रूप में देश पर शासन करते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ कानूनों के बारे में।

North Korea Calendar

उत्तर कोरिया कैलेंडर

भले ही दुनिया 21वीं सदी में जी रही हो, लेकिन यह अभी भी उत्तर कोरिया के लोगों के लिए 106वां साल है। उत्तर कोरिया का जुचे कैलेंडर 15 अप्रैल 1912 से शुरू होता है, जो इसके संस्थापक किम इल-सुंग के जन्म की तारीख है।

North Korea Channel

उत्तर कोरिया टेलीविजन चैनल

उत्तर कोरिया में लोगों पर कड़ी नजर रखी जाती है. ऐसे में मीडिया पर पकड़ मजबूत होना आम बात है. यही कारण है कि लोगों के पास टीवी पर देखने के लिए केवल तीन टेलीविजन चैनल हैं, जिनके कार्यक्रम भी सरकार द्वारा नियंत्रित होते हैं।

North Korea Election

उत्तर कोरिया चुनाव

देश पर 1948 से एक ही परिवार का शासन है, लेकिन यहां मजे की बात यह है कि उत्तर कोरिया में हर साल चुनाव होते हैं। वहीं, मतदाताओं को चुनने के लिए एक ही प्रत्याशी है। चाहे महापौरों का चुनाव हो, प्रांतीय गवर्नरों का या स्थानीय विधानमंडलों का, हर जिले में मतपत्र पर एक ही उम्मीदवार होता है।

 

North Korea School

उत्तर कोरिया स्कूल

उत्तर कोरिया में जो माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल भेजते है। उन्हें बच्चों के लिए डेस्क और कुर्सी खुद मुहैया करानी होती है । वहीं कुछ छात्रों को सरकारी कामों में मजदूरी का काम भी कराया जाता है। इसमें कचरा उठाना सबसे आम बात है।

North Korea 3 Generation Punishment

उत्तर कोरिया कानून

उत्तर कोरिया में तीसरी पीढ़ी को सजा देने का नियम देश की एक भयावह हकीकत को दर्शाता है। देश में यदि कोई व्यक्ति अपराध करता है तो उसके दादा-दादी, माता-पिता और बच्चों सहित उसकी पूरी रक्तरेखा को जेल भेज दिया जाता है।

North Korea Village

उत्तर कोरिया गांव

उत्तर कोरिया को दुष्प्रचार फैलाने वाले देश के रूप में पहचाना जाता है। यही कारण है कि उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया से लगी सीमा पर ‘प्रोपेगैंडा गांव ‘ स्थापित किया है। इस गांव के जरिए उत्तर कोरिया यह दिखाने की कोशिश करता है कि उसका देश बड़ी आर्थिक प्रगति कर रहा है।

Human Rights in North Korea

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.